Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / पुणे दलित हिंसा बीजेपी-आरएसएस और जातिवादी ताकतों का हाथ है

पुणे दलित हिंसा बीजेपी-आरएसएस और जातिवादी ताकतों का हाथ है

 

 ‘ये जो घटना घटी है, ये रोकी जा सकती थी. सरकार को वहां सुरक्षा के उचित प्रबंध करने चाहिए थे. वहां बीजेपी की सरकार है ओर उन्होंने वहां हिंसा कराई. लगता है इसके पीछे बीजेपी-आरएसएस और जातिवादी ताकतों का हाथ है.‘ #bsp

 

Yeh jo ghatna ghati hai yeh roki ja sakti thi. Sarkaar ko wahan suraksha ka uchit prabandh karna chahiye tha. Wahan BJP ki sarkaar hai aur unhone wahan hinsa karayi, lagta hai iske peeche BJP,RSS aur jaati wadi takaton ka haath hai: BSP Chief Mayawati

 

 

 

इस वजह से फैली हिंसा
इस लड़ाई में ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना ने पेशवा की सेना को हराया था. पुणे जिले में भीमा-कोरेगांव की लड़ाई की 200 वीं सालगिरह पर आयोजित एक कार्यक्रम के हिंसा हो गई. इस लड़ाई में ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना ने पेशवा की सेना को हराया था. दलित नेता इस ब्रिटिश जीत का जश्न मनाते हैं. ऐसा समझा जाता है कि तब अछूत समझे जाने वाले महार समुदाय के सैनिक ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना की ओर से लड़े थे. हालांकि, पुणे में कुछ दक्षिणपंथी समूहों ने इस ‘ब्रिटिश जीत’ का जश्न मनाए जाने का विरोध किया था. पुलिस ने बताया कि जब लोग गांव में युद्ध स्मारक की ओर बढ़ रहे थे तो आज दोपहर शिरूर तहसील स्थित भीमा कोरेगांव में पथराव और तोड़फोड़ की घटनाएं हुईं.

Check Also

पावटा, राजिस्थान में श्रीयादे माता जयंती एवं प्रतिभा सम्मान समारोह सम्मलित

पावटा, राजिस्थान में श्रीयादे माता जयंती एवं प्रतिभा सम्मान समारोह में बतौर मुख्य अतिथि सम्मलित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *